सोमवार, मार्च 21, 2016

भट्टी



यारों अब गफ़लत को छोड़ो, आग बरसने वाली है..!
ईमा की भट्टी दहका लो, जान निकलने वाली है...!
एम साजिद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ads Inside Post