गुरुवार, मार्च 31, 2016

माल-ए-ग़ैर



दुनिया में जो कुछ है वह सब हमारे लिए माल-ए-ग़ैर है, क्योके सब कुछ अल्लाह का है उसे अपने लिए जाईज़ करने की वाहिद सूरत है के अल्लाह के बाताए तरीक़े से हासिल किया जाए और उसे अल्लाह के बताए तरीक़े से इस्तेमाल किया जाए |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ads Inside Post