गुरुवार, फ़रवरी 25, 2016

हाजतरवां...

जानता हु दुनिया की बक़ा, मुमकिन नहीं
फिर भी दिल दुनिया में लगा क्या करे...!!

जानता हु सबका हाजतरवां तो वो रब है
फिर भी दिल लोगों में लगा क्या करे...!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ads Inside Post