गुरुवार, फ़रवरी 25, 2016

आरजू-ए-हश्र

बोझल है दिल हक़ीर सी हसरत से आपकी 
आ, आरजू-ए-हश्र को नाज़ों से थाम ले...!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ads Inside Post