शुक्रवार, मार्च 04, 2016

उम्मीद अमन की



इस जहाँ  से कुछ भला होता नहीं
साफ़ दिल में,कुछ छिपा होता नहीं!

चाहते  बरबाद  करती है यहाँ  
ग़ै-बियाना तो भला होता नहीं..!

छोड़ना मत उम्मीद  अमन की 
नफरतों से तो भला होता नहीं..!
एम साजिद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ads Inside Post