बुधवार, मार्च 02, 2016

उनका कोई सानी नहीं

उनका कोई सानी नहीं हमसर नहीं
उनसा कोई दाना नहीं दीखता हमें.!

अहकाम-ए-हक़ जिनका कभी छूटा नही
ऐसा नहीं इस दौर में दीखता हमें ..!

दामन मेरा अब छोड़ दे तू ऐ जहां..!
तुझ सा कोई ज़ालिम नहीं मिलता हमें

क्यों रहु इन लज़्ज़तों में मुब्तला
मुँह मोड़ लेगा तू ही कहता हमें.!

-एम साजिद
4 : दुनिया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Ads Inside Post